Valentine 2007

10 years from now, I was a final year engineering student at Kathmandu University, Dhulikhel, Nepal. This was our last winter vacation at KU and I along with some of my friends had planned to stay at the college. We passed time by working on our academic projects, watching movies, learning guitar & drums. The objective was to enjoy the final moments there at fullest. That we didn’t miss.

Valentine 2007
We climbed the roof of the bus to travel our way.

It was 11th of Feb, 2007 in the evening after dinner when we suddenly decided to visit Charikot in order to enjoy snow fall. It didn’t take time to bag-pack and we left early next morning. Full of excitement and enthusiasm we had. I remember we climbed the roof of the bus to travel our way.

Valentine 2007
We could see the range of the Himalayas, feel the chilled weather but the snow was far away to reach
Valentine 2007
Valentine 2007

In the search for snow fall we reached the place but were saddened by the drought encountered. We could see the range of the Himalayas, felt the chilled weather but the snow was far away to reach. We went on asking people where we can find snow nearby but the replies from them made us feel down. They told us to visit places near Jiri to experience snow fall. We had lesser cash and lacked time, hence we stayed in the middle, passed the night there & enjoyed the beautiful range of Himalayas from the distant.

Valentine 2007
We enjoyed the beautiful range of Himalayas from the distant.
Valentine 2007
We clicked group pics.
Valentine 2007
Valentine 2007

After wasting a complete day in the search for snow, the next morning we left for KU. On the way we sang songs, cracked jokes, clicked group pics. We chose our ultimate goal and that was to celebrate and enjoy.

Valentine 2007
We jumped over our feet.
Valentine 2007
We posed.
Valentine 2007
We played and played and played with the snow.
Valentine 2007
Happiness had crossed its limit.

On our way back, we saw a hill covered with snow. We were delighted to see the scene. Let’s climb the hill, one of my friend giggled. All of us mourned for a moment then shouted yes, lets do it. Immediately, we asked the conductor to stop the bus and started to climb the mountain.

Valentine 2007
We played until we got exhausted.
Valentine 2007
I could not believe myself, finally I did it.

Ah! wow! gracious! I touched the snow for the first time in my life. Not only me, everyone of us screamed, jumped over our feet. Touched it, felt it, very light, cool, soft, powdered fluff. There wasn’t any limit to our happiness. Our dream came true. Finally, we did it. We played and played and played with the stale snow.

Valentine 2007
We played with the snowman too.
Valentine 2007
We took rest. We were exhausted.

We did all the things that people do in the televisions and movies. We enjoyed until our excitement faded. However, we achieved our destiny. Before it was too late we planned to return back. We climbed down the hill, we caught a bus and returned back to the source.

Valentine 2007
Valentine 2007
Valentine 2007
We climbed down the hill, we caught a bus and returned back to the source

The story hasn’t come to an end. It was a full of surprise when we experienced the fresh snow falling the next morning. It was 14th of Feb, 2007. It did after 60 years. All the people came out of  their houses. To touch it, to feel it, to experience it, the white powdered fluff. Everyone had a smile on their face, full of joy.

Valentine 2007
Valentine 2007 – Saaga
Valentine 2007
Valentine 2007 – Saaga
Valentine 2007
Valentine 2007 – Saaga
Valentine 2007
Valentine 2007 – Saaga
Valentine 2007
Valentine 2007 – Saaga

I felt like the God listened to us, our prayer. God appeared in front of us. I celebrated my Valentine 2007 with the nature of God.

10 years has been passed. I feel like it was yesterday. All I can have now are the only memories of the past. All I can do now is to feel nostalgic. I am getting jealous of myself. I wish I could bring back my days.

Think once before you utter the word “Bhaiya”

You dont have right to call me bhaiya. Please mind your language when you speak next time” was the spontaneous response when he was trying to submit his application to window no. 2.

The dark guy entered into the hall and asked a ball pen with me to write an application. As soon as he finished with it, he headed towards the window no 2 and spoke something in a gentle nepali voice. Few conversation occured between this guy and the officer. Suddenly, the guy got fired and then the above scene triggered.

Racism-1-600x218
The nepali officer looked old, thin and his hair turned blakish grey but he talked only in hindi. He was not able to speak in Nepali, may be due to prolonged stay in India. However, It is unfortunate to call a young man bhaiya by an elder person and i too feel ridiculed in such situations.

That was an appropriate punch to that man at a perfect time. I know the old man didnt mean to hurt the guys sentiment and was polite enough while talking but this time was not right. The time has completely changed its face and the meaning of bhaiya has taken a new turn. The word has become so common and is over looked now and it conveys the sense of racism. Not only in Nepal but the trend is also taking pace in entire india calling bihari bhaiya.

No, we dont have any right to call anyone a bhaiya just for he is dark in color or he pulls a rickshaw or he sells vegies n fruits  on Thellas.  Let us respect ourselves and preserve humanity. No one has become superior by making someone feel inferior, our greatness is indicated by our attitude and Karma. Bhaiya is a word to call our elder brother with respect, let us not change it’s meaning. Let us think once before uttering this word. Let us not be a part of Racism voluntarily or involuntarily.

विपस्सना की पहली अनुभूति

सन २०१० के जुलाई महीने में मैं सम्मर वेकेशन मनाने काठमांडू गया। वर्ल्ड कप का नशा हर व्यक्ति में छाया हुआ था। फाइनल देखने के लिए दोस्त के रूम पर बियर के बोतल खुली और वर्ल्ड कप ख़तम होने के बाद घर लौटने की तैयारी करी|

meditation-blog

1 महीने की छुट्टी अभी शेष थी, दिन कैसे बिताउ समझ में नहीं आ रहा था। अचानक दिमाग में कुछ आया, मार्टिन को कॉल करके आईडिया लिया. तुरंत सम्बंधित निकाय को कॉल करके डेट्स फाइनल किया। रिसीवर से आवाज आई आपको आज ही पंजीकरण करवाना होगा और कल से ही आपके कोर्स की शुरूवात होगी, जल्दी करियेगा सीट बहुत कम रह गयी है।  हमने जल्दी से अनु को बाइक लेके आने को बोला।  हम दोनों होंडा शो रूम पहुंचे और मेरी आईडिया अनु को बताया और वो भी शामिल हो गया।  आधे घंटे के अंदर हमारा पंजीकरण होगया और हमें एक बुकलेट दी गई रटने के लिए।  

अति उत्सुक था और मन में थोड़ा भय भी, क्यों की अगले १२  दिन मेरे जिंदगी के ऐसे छण बिताने जा रहे थे जो पहले कभी एक्सपीरियंस नहीं किया था ।  

अगले दिन सुबह ७ बजे अनु और मैं ऑफिस पहुंचे, शायद थोड़ी जल्दी पहुंच गए, ४ लोग पहले से बैठे हुए थे। आधे घंटे में ऑफिस का वेटिंग रूम भर चूका था, सीट के एब्सेंस में कई लोग खड़े थे, करीबन २०० लोग होंगे मेल, फीमेल और बुजुर्ग मिलाके। सब के हाथ में कम से कम एक बैग या एक सूटकेस था और आपस में खुसूरफुसुर कर रहे थे। समय होचुका था, ऑफिसर ने आके अनाउंसमेंट किया : सबको हॉल की तरफ जाना है, शांत रह कर आचार्य (गुरु) जी से १ घंटे का प्रवचन ग्रहण करना है।  प्रवचन के बाद सबको बैच में बांटा गया, हर बैच को विंगर में बैठने की सलाह दी गयी। विंगर एक एक करके रवाना हो रहे थे। वैसे ही हम भी एक विंगर में बैठके रवाना हो गए।  

center-vipassana-meditation

अभी तक हमें बताया गया था की हमें १० दिन कंटिन्यू बगैर बोले ध्यान करना है, हम धर्मश्रृंगा के ओर प्रस्थान कर रहे थे।  काले बादल छाए हुए थे और जैसे ही शिवपुरी पहाड़ों पे चढ़ना शुरू किया वैसे ही बारिश होने लगी, यह शुभ घडी का संकेत था हमारे लिए।  

गंतव्य पे पहुंचते ही हमने चेक इन किया, मोबाइल फ़ोन जमा करना पड़ा और हमें अकोमोडेशन के रेगुलेशंस बताया गया।  अनु का रूम मेरे रुम से काफी दूर आलोट किया गया था।  घने जंगल के बिच में, मध्य पहाड़ी से सारा काठमांडू का नजारा दिखता था, हल्की बारिश और ऐसे मौसम में किसका मन शांत न हो। ऐसा लग रहा था की आधी मोक्ष की प्राप्ति कोर्स सुरु होने से पहले ही मिल गई।  शाम के डिस्कोर्स में १० दिन की रूटीन बताया गया और कंसल्ट करने के लिए एक आचार्य आल्लोट किये गए।  अगले १० दिनों तक किसी को कुछ बोलने की इजाजत नहीं थी, ना ही कोई इशारा करने की।  किसी को कुछ दिक्कत हो तो वालंटियर्स को इन्फॉर्म करने को बताया गया।  रात को ९ बजे विश्राम करने को अनुमति दी गई| 

सुबह ४ बजे मॉर्निंग बेल बजा, आधे घंटे में रेडी हो कर मैडिटेशन हॉल जाना था।  सबको बैठने के लिए सीट मिली हुई थी।  कोर्स का पहला दिन था, सारे शांत थे, बोलता था तो सिर्फ ऑटोमेटेड स्पीकर्स।  वो कुछ समय इंस्ट्रक्शंस देता और हम उसके बताए हुए कमांड्स को प्रैक्टिस करने को ट्राई करते| यह प्रक्रिया दिन भर कंटिन्यू रहता था।  करीब ११ बजे अपने आचार्य के साथ कंसल्ट करने की परमिशन थी जिसमे हम अपना एक्नॉलेजमेंट देते थे और डाउट्स क्लियर करते थे। सुबह आधे घंटे का ब्रेकफास्ट, दोपहर को डेढ़ घंटे का लंच और शाम को आधे घंटे का डिनर छोड़ कर हर एक डेढ़ घंटे में ५ मिनट की ब्रेक मिलता था।  शाम को साढ़े ८ बजे गुरु जी का डिस्कोर्स अटेंड करते थे।  बाकि सारा समय सुबह ४ से लेकर रात को ९ बजे तक सब्जेक्ट की प्रैक्टिस करते रहते थे।  पुरे कोर्स को २ सब्जेक्ट में डिवाइड किया गया था : पहला ३ दिन १ सब्जेक्ट पे प्रैक्टिस किया और दूसरा बाकी के ७ दिन।

vipassana-1459139727

धीरे धीरे दिन बीत रहा था, रोज कुछ ना कुछ सीखने को मिल रहा था, ऐसा लग रहा था ज्ञान के सागर मे तैर रहा हूँ| बहोट आनंद आ रहा था| परंतु कुछ लोग परेशान होने लगे थे, मेरे रूममेट्स रात होते ही बाते करने लगते थे और अब वो शैयाँ कुछ हद तक टूट चुका था. हमने भी एक बार प्रयास किया अनु से बात करने का लेकिन वॉलंटियर्स ने माना कर दिया| बहुत को वॉर्निंग मिलने लगी थी, इससे पता चल रहा था की इंसान की बोलने की आदत बहुत बुरी तरह से लगी है और यह आसानी से नही छूट सकती|

पाँचवा दिन था, सुबह सुबह 5-7 लोग गुरु जी के साथ परामर्श कर रहे थे| हमारे बाद गुरु जी ने एक दोस्त से पूछा: शरीर मे कुछ फील हो रहा है या नही? जवाब था: मैइ मेरे शरीर के इक्कीससो अंगो को फील कर रहा हूँ| यह सुन के दूसरा दोस्त हसने लगा और उसकी हसी देख कर हम सब भी हसने लगे और गुरु जी भी| गुरु जी ने हसी रोकने को कहा, और हसने का बेफायदा भी बताया, सब लोग शांत हो गये सिवाए मेरे और वो जिसने शुरूवात की थी| गुरु जी ने बाहर जाने की सलाह दी , हम बाहर जा कर खूब हसे, हसी रुकने के बाद वापस अपनी सीट पर जा कर बैठ गये| उस रात मैने बहुत सोचा , सोचते सोचते अचानक से आँखो से आँसू टपकने लगे| अजीब सी अनुभूति होने लगी और एहसास हुआ की मुझे इस तरह नही हसना चाहिए था, बहुत बुरा फील हो रहा था| साथ ही साथ ऐसा भी लग रहा था जैसे मुझे आज कुछ कीमती चीज़ मिली हो जो बहुत कम लोगो को मिलती है|

वो चीज़ जिसे मैने बरसो पहले खो दिया था. लग रहा था अंधेरे जीवन मे सूरज की पहली किरण पड़ी हो| ज्ञान के सागर मे रो रहा था लेकिन खुशी के आँसू टपक रहे थे, अपने आप को कोसने लगा, ये ज्ञान मुझे पहले क्यूँ नही मिला, पहले क्यूँ नही मिला|

sunrise-meditation

दशवा दिन मेलमिलाप वाला दिन था, सब लोग आपस मे बाते कर सकते थे, सुख दुख की बाते बता सकते थे| सबके चेहरे पे खुशी की रौनक थी, 9 दिन बाद जो खुलके बात करने को मिला था| आपस मे सारे पहचान कर रहे थे और अपने एक्सपीरियेन्स बाँटने मे लगे हुए थे, कोई बुक्स खरीदने मे व्यस्त था तो कोई फोटो खिचने मे| कोई खुश था वंडरफुल एक्सपीरियेन्स को पाकर तो कोई बस यूँ ही|

अगले दिन सुबह वीपास्साना कोर्स का अंतिम अनुभूति करा और 9 बजे चेक आउट करके अनु और मै घर लौट आए|

कहते है हिंदू कोई धर्म नही, यह जीने की एक सैली है वैसे ही वीपास्साना भी जीने का तरीका सिखाती है, खुश रहना सिखाती है, जी हाँ खुश रहना सिखाती है| यह कोर्स में 95% प्रॅक्टिकल करवाया जाता है| इसके रोज अभ्यास करने से नैतिक ज्ञान की प्राप्ति होती है, समाज, देश और संसार को सही राह पे चलना सिखाती है. यह आज मे जीना सिखाती है|

बेहुली अनि उ

जब ऊ रुदै आफ्नो जन्म दिने घर छाड्छे
आमा म जादिन भनि कराउछे अनि चिच्यौछे।

उसले हेर्छ अनि मन निराश पार्छ
मन खिन्न बनाउदै टुलु टुलु हेरी रहनछ।

आज ऊ बिहानै उठ्छे हात मुख धोई चुल्हो जलाउछे
चेली बेटी संग कुरा गर्छे अनि खै के कुरा मा खितकी छाडेर हास्छे।

उसले फेरी हेर्छ मन गद गद पार्छ
अनि हिजो को उसको रुवाई सम्झेर मन बिचल्ली मा पार्छ।

ऊ बिहानी भर सोचेर बस्छ अन्योल मा पर्छ
साथि भाइ संग गएर वार्तालाप गर्छ।

रुवाई उसको महत्वपुर्ण हथियार हो एउटा ले व्यंग्य गर्छ
हिज उसले त्यो हथियार मा बेस्क्नी धार लगाएकी हो।

भोलि देखि उसले यसलाई प्रयोगमा ल्याउनेछे
मन मा लागेका आफ्नो स्वार्थ पुरा गर्नेछे।

थप्दै अगाडी बढ्छ, होइन, बेदना मा डुबेकी थि उ
आमा संग को वर्षौ को संगत छाड्नु परेको थियो।

वर्षौ बसेको घर अनि साथि-संगिनी त्याग्नु परेको थियो
नया ठाउ अनि नया घर अपनाउनु परेको थियो।

जब ऊ रुदै आफ्नो जन्म दिने घर छाड्छे
आमा म जादिन भनि कराउछे अनि चिच्यौछे।

12705214_774003096077433_7574830738434770657_n

आमाले न सिखाएको सब्द, डर।

१.
डर भन्ने कुरो खै किन छुदै छुयेन मेरो जिन्दगिलाइ। डरौथे त केवल आफ्नै बाउ सित। बाजे सित त डराइन, जसलाई देख्नासाथ सारा गाउ तर्सिन्थे।  बाजे को चप्पल गालामा न परेको होइन, यिनले माया पनि उतिनै गर्थे।

सायद मेरी आमाले मलाई डर को परिभासा न पढाएको भएर हुन सक्छ।  मन मा जे आयो तेही गरे।  जिन्दगीले जता डोर्यायो उतै लर्के।

:डी, त्यसो भन्न खोजेको होइन कि लाइफ मा डारौदै डराइन।  याद छ मेरो अंग्रेजी को पहिलो प्रिजन्टेसन, दुइ मिनट सबै को अगाडी ठिङ्ग उभेको, हात र खुट्टा ले झन्डै जवाब दिएको। अनि त्यो दिन कहाँ बिर्सन सक्छु जब उसलाई डेढ घण्टा लगाएर प्रोपोज गरेको थिए, सातो गाको थियो उसले गालि गर्छ कि भनेर।

२. …